साहित्यश्री सम्मान

नंदलाल महर्षि हिन्दी साहित्य सृजन पुरस्कार

प्रति वर्ष राष्ट्रीय स्तर पर साहित्य एवं संस्कृति के क्षेत्र में उल्लेखनीय अवदान के लिए प्रतिष्ठित 'श्री मलाराम माली स्मृति साहित्यश्री सम्मान' की घोषणा राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार समिति द्वारा की जाती है । इस बार संस्था का सर्वोच्च सम्मान लब्धप्रतिष्ठ व्यंग्यकार प्रेम जनमेजय को उनके समग्र साहित्यिक अवदान के लिए अर्पित किया जाएगा। सम्मान हेतु विगत 20 वर्षो के सम्बन्धित क्षेत्र के योगदान को आधार के रूप में रखा जाता है । देश भर में चर्चित यह सम्मान 14 सितम्बर को संस्था के वार्षिकोत्सव के अवसर पर श्रीडूंगरगढ में अर्पित किया जाता है । श्री प्रेम जनमेजय व श्री माधव नागदानागदा से पूर्व राजेन्द्र यादव, से.रा.यात्री, विष्णु प्रभाकर, हरीश भादानी, यादवेन्द्र शर्मा 'चन्द्र', पंकज बिष्ट और प्रखर युवा समालोचक पल्लव सहित 50 से अधिक विद्वान मनीषियों को संस्था की सर्वाच्च मानद् उपाधि से अलंकृत किया जा चुका है ।

सभी सम्मानित साहित्यकारों को पुरस्कार स्वरूप ग्यारह हजार रूपये नगद राशि के साथ सम्मान-पत्र, स्मृति-चिह्न, शॉल अर्पित किए जाते है ।

'साहित्यश्री' सम्मान से अब तक अलंकृत विद्वतगण

हाल ही में अलंकृत विद्वतगण

image3

डॉ. रवीन्द्र - वर्ष 2022

image3

श्री राजाराम भादू - वर्ष 2021

image3

श्री रमेश जोशी - वर्ष 2020

image3

श्री प्रेम जनमेजय - वर्ष 2019

image3

श्री माधव नागदा - वर्ष 2018

image3

श्री पंकज बिष्ट - वर्ष 2017

image3

श्रीमती प्रीता भार्गव - वर्ष 2016


image2

राजस्थली 156

राजस्थली अंक 156
(जुलाई -सित. 2022)

image1

जूनी ख्यात

जूनी ख्यात
अंक(जन. - जून 2022)

प्राप्त करे

हाल ही में

पुरस्कार घोषणा
वर्ष 2022

अखबार कतरन

अखबार कतरन
वर्ष 2020-22


चर्चा में

विचारशीलता की कर्म स्थली : राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार समिति, श्रीडूंगरगढ़

सांस्कृतिक मूल्यों के संवर्द्धन व अनुरक्षण की भावना से स्थापित संस्था

संपर्क

राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार समिति
श्रीडूंगरगढ (बीकानेर) राज.

ईमैल: info@rbhpsdungargarh.com
वेबसाइट: www.rbhpsdungargarh.com

घोषणा

इस वैब प्रारूप में सम्मिलित सभी चित्र प्रदर्शन हेतु प्रायोगिक तौर पर लिए गए हैं । वास्तविक चित्र वैब निर्माण प्रक्रिया पूर्ण होने पर भिन्न हो सकते हैं । यह वैबसाइट अभी निर्माणाधीन है ।